Saturday, August 20, 2011

एक नज़र

एक नज़र, किसी का भी, यूँ काम तमाम, कर देती है |
तीर क्या, तलवार क्या, बन्दूक को भी आराम देती है |


.

No comments:

Post a Comment