Friday, August 5, 2011

आईना है

अब तो यादों का आईना है,
दिखती है शक्ल तेरी उसमें,
मुझे मेरी याद भी न आती है,
बस तू नज़र आती है तेरी उसमें,

.

No comments:

Post a Comment