Monday, August 22, 2011

सोचकर गर

सोचकर गर दिल लगाया,
तो प्यार कैसे पायेंगे,
समझकर गर दिल लगाया,
तो बहक कैसे पाएंगे,


.

No comments:

Post a Comment