Monday, August 22, 2011

बहती हैं

बहती हैं नदियाँ,
तो सागर को क्या सोचना,
बहते हैं जज़्बात,
तो शायर को क्या सोचना,


.

No comments:

Post a Comment