Saturday, August 20, 2011

चल पड़ी

चल पड़ी शमशीर, दिया गला चीर |
फव्वारा उठा खून का, जाने न पीर |


.

No comments:

Post a Comment