Friday, August 5, 2011

हसरत जहाँ

हसरत जहाँ में आखों को हुश्न देखने की होती है |
जिधर भी हुश्न दिखता है, ये नज़र उधर होती है |


.

No comments:

Post a Comment