Saturday, August 20, 2011

महकती फिजाओं

महकती फिजाओं का आलम, बसाया है यूँ तुमने |
थोड़ी खुशबू मुझे लेने दो, मदहोश किया यूँ तुमने |

.

No comments:

Post a Comment