Monday, August 22, 2011

तखल्लुस और

तखल्लुस और रख लिया है,
इस टूटे हुए दिल का,
रहना है इस महफ़िल में,
क्यूँ जाहिर करें जख्म दिल का,


.

No comments:

Post a Comment