Monday, August 22, 2011

अब इंतज़ार

अब इंतज़ार हुश्न का नहीं करते,
जबसे एक बार दिल टूट गया,
यूँ बस बैठे रहते है,
कोई जबसे से छोड़कर गया,


.

No comments:

Post a Comment