Monday, August 22, 2011

बा मुश्किल

बा मुश्किल टूटे दिल को पिघला कर फिर से जमाया था,
अभी ठण्डा भी न हो पाया था, किसी ने फिर से नज़र का तीर चलाया था,

.



No comments:

Post a Comment