Monday, August 22, 2011

राहें छूट

राहें छूट गयी बहुत दूर,
अब तो बे राहों पर चलना है,
हमसफ़र अब कोई नहीं,
अब तो कदम-कदम पर संभालना है,

.

No comments:

Post a Comment