Monday, August 22, 2011

रुमन्दर परवीनों

रुमन्दर परवीनों से यह मत पूछो,
कहाँ-कहाँ जख्म खाए हैं,
अभी तो मलहम भी नहीं लगाया,
वो फिर जख्म देने आये हैं,


.

No comments:

Post a Comment