Friday, August 5, 2011

हर हुश्न

हर हुश्न यहाँ फ़ना होना चाहता है,
हर इश्क यहाँ फ़ना होना चाहता है,


.

No comments:

Post a Comment