Friday, August 5, 2011

नज़र यूँ

नज़र यूँ नज़र से मिली,
इशारा कुछ यूँ कर गयी,
वो मेरे पास से गुजरी,
नज़ारा कुछ नज़र कर गयी,


.

No comments:

Post a Comment