Wednesday, August 3, 2011

बहुत दिनों

बहुत दिनों से तलाश है उसकी |

कैसे मैं पूंछू पतिया यूँ उसकी |


क्या सोचेंगी सह्कर्मियाँ ये उसकी |


कौन है क्यों पूछता है बात ये उसकी |


.



No comments:

Post a Comment