Sunday, July 10, 2011

सरे बाज़ार

सरे बाज़ार तुझे उठाऊंगा |
प्यार किया है, शादी तुझी से रचाउंगा |
ज़माने को यह करके दिखाऊंगा |
कितना दम भर ले जमाना, तुझे तो लेकर जाऊँगा |

No comments:

Post a Comment