Thursday, July 28, 2011

मक़सूद हुश्न

मक़सूद हुश्न था,
मक़सूद जवानी थी,
छाई रवानी थी,
एक कहानी थी,


.

No comments:

Post a Comment