Saturday, July 30, 2011

आफ़ताब हुश्न

आफ़ताब हुश्न का टपकने लगा है |
दरिया अब नूर का बहने लगा है |


.

No comments:

Post a Comment