Thursday, July 28, 2011

बहुत हुश्न

बहुत हुश्न को संभाला था, उसमें दिल कितना डाला था |
न मिला चाहने वाला था, सबके दिल पर लगा ताला था |


.

No comments:

Post a Comment