Thursday, July 28, 2011

न दीदार

न दीदार कर, न इंतज़ार कर, अब तो हम चले |
न तुम अब आओ, हम तो किसी और के हो चले |


.

No comments:

Post a Comment