Thursday, July 28, 2011

मेरे मयखाने

मेरे मयखाने में आकर, इतनी न पिया करो |
ये जुल्म अब बंद करो, अब रहम किया करो |

.

No comments:

Post a Comment