Friday, July 29, 2011

घायल हैं

हम तो हुश्न के, तेरी अदा के भी कायल हैं |
तू न देखे, तेरी इस अदा से भी घायल हैं |


.

No comments:

Post a Comment