Sunday, July 10, 2011

यूँ तो जमाना

यूँ तो जमाना बहुत अफसाने सुनाता है |
कभी लैला, कभी हीर के दीवाने बनाता है |

No comments:

Post a Comment