Thursday, July 28, 2011

यादों के

यादों के उसके सहारे |
बिना किसी को पुकारे |
बीत गयी जिन्दगी यूँ कर गयी |
अब तक याद न उसकी गयी |


.

No comments:

Post a Comment