Saturday, July 30, 2011

रफ्त्गुल हुश्न

रफ्त्गुल हुश्न यूँ बेपर्दा नहीं होता |
गर तू आखों से पहचानता होता |

.

No comments:

Post a Comment