Thursday, July 7, 2011

वक्त बहुत

वक्त बहुत कम था |
बात उसको कहनी थी |
शायद सुन ले वह |
कुछ इस तरह से कहनी थी |

No comments:

Post a Comment