Friday, July 8, 2011

न पता

न पता था उमर यूँ गुज़र जायेगी |
जिन्दगी सारी तो यूँ कट जायेगी |
आखिरी पड़ाव पर तू नज़र आयेगी |
चलो अब नज़र में तो बस जायेगी |

No comments:

Post a Comment