Friday, July 8, 2011

हाल जिन्दगी

हाल जिन्दगी का नहीं मौत का अब पूछो, यूँ तो जिन्दगी में हालत बहुत झेले हैं |
तुम तो खेलते हो जिन्दगी से, हम मौत से बहुत खेले हैं |

No comments:

Post a Comment