Sunday, July 10, 2011

हम न

हम न जान पाए,
मोहब्बत के फ़साने को,
दीवाना बना गयी वो,
इस बेगाने को,
हम न जान पाए,
मोहब्बत के फ़साने को,

जिन्दगी कट रही,
बात अब तो बन रही,
कुछ ख्याल मेरा भी,
अब तो वो रख रही,
हम न जान पाए,
मोहब्बत के फ़साने को,

1 comment:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ||
    बहुत बधाई ||

    ReplyDelete