Sunday, July 10, 2011

खुश वो

खुश वो मंज़र था |
खुश ये मंज़र था |
दिल में खंजर था |
दिल तो बंज़र था | 

No comments:

Post a Comment