Friday, July 8, 2011

है दूर

है दूर जिन्दगी का मकसद |
पर पास है अपनी मोहब्बत |
दूर का जाना यूँ खलता है |
जब पास अपने सब मिलता है |

No comments:

Post a Comment