Friday, July 8, 2011

इंतज़ार कर

इंतज़ार कर रही हूँ, राह पर आखें गडी हैं |
वो आया तो देखा, कोई और पास खड़ी है |

No comments:

Post a Comment