Friday, July 8, 2011

परवरिश की

परवरिश की खुदा ने, जीने दिया जहाँ में |
सब तरफ खुदा है, छोड़कर जाऊंगा कहाँ में |

No comments:

Post a Comment