Wednesday, July 6, 2011

बा खुदा

बा खुदा क्या हुश्न पाया है |
निगाहों को यूँ भरमाया है |
दिल में अरमा जगाया है |
तुझे पाने को ललचाया है |

No comments:

Post a Comment