Sunday, July 10, 2011

आखें भरी

आखें भरी हैं अश्क से, कैसे दीदार करून |
चेहरा छुप रहा है उनसे, कैसे दीदार करून |
पास इतना गुज़र गए, नज़र एक कर गए |
नज़रों से नज़रों में लाखों सवाल कर गए |

No comments:

Post a Comment