Thursday, July 7, 2011

रातों की नींद

रातों की नींद, दिन का चैन |
मोहब्बत में होते हैं सब बेचैन |
करवटें बदलते हैं, इधर-उधर टहलते हैं |
मोहब्बत में होते हैं सब बेचैन |

No comments:

Post a Comment