Sunday, July 10, 2011

बाजे बजे

बाजे बजे, समां बंधा |
किसी की डोली उठी, किसी का जनाजा उठा |

No comments:

Post a Comment