Sunday, July 10, 2011

अपनों को

अपनों को छोड़कर, दूसरों को पकड़कर |
जिन्दगी में कोई चल पाया है, इतने दिन किसी का दिल तोड़कर |

No comments:

Post a Comment