Friday, July 8, 2011

आखें खुली

आखें खुली हैं, दिल बेहाल है |
राहें तकी हैं, किसी का इंजतार है |

No comments:

Post a Comment