Friday, July 8, 2011

कितना बेदर्द

कितना बेदर्द है जमाना |
मतलब परस्ती का है फ़साना |
बात न बनती देख |
बात न सुनता एक |

No comments:

Post a Comment