Friday, July 8, 2011

सफियाने मैं

सफियाने मैं मौजू की जानिब खड़ा हो गया |
दरमियाने में तू निकली दीदार तेरा हो गया |

No comments:

Post a Comment