Friday, July 8, 2011

यूँ तो जिन्दगी

यूँ तो जिन्दगी कुछ कट रही थी |
कुछ अपनी कुछ उसकी पट रही थी |
हमसफ़र बनकर उसने साथ दिया |
सफ़र का सब सफ़र उसने यूँ बाँट लिया |

No comments:

Post a Comment