Friday, July 8, 2011

तुझे वक्त

तुझे वक्त किया सोचले अभी |
बाद में न पछताना , सोचले अभी |
गर हो गयी किसी की, सोचले अभी |
पायेगी न मुझे कभी, सोचले अभी |

No comments:

Post a Comment