Friday, July 8, 2011

हूर है

हूर है तू जन्नत की, मैं आदम हूँ जमीं का |
गर तू छोड़कर चली गयी, रह न पाउँगा कहीं का |

No comments:

Post a Comment