Saturday, July 2, 2011

सुन लेता

सुन लेता हूँ तेरी आवाज़, काट लेता हूँ दिन और रात |
दोस्त पूछते, क्या है तेरी, बेतल्खी के राज़ की बात |

No comments:

Post a Comment