Wednesday, July 6, 2011

एक ख्वाब

बस एक ख्वाब था, तुझसे मिलने का अरमान था |
जिन्दगी का आखिरी लम्हा, गुजरने के करीब था |
न तू मिली, जमीन पर, जन्नत में तो मिलेगी |
तब हूर बनकर, जन्नत में खिलेगी |

No comments:

Post a Comment