Wednesday, July 6, 2011

होश खोकर

होश खोकर जिन्दगी को अभी संभाला था |
देख़ा जो तुझे, जिन्दगी को भी रम्भाला था |
पनाह में किसी की अब न जायेंगे |
निगाहों तेरी से एक बार जो गुज़र जायेंगे |

No comments:

Post a Comment