Sunday, July 10, 2011

मगरूर हसीना

मगरूर हसीना, तुझे है फँसाना |
तेरी मगरुरियत, तोड़कर है जाना |

No comments:

Post a Comment