Sunday, July 10, 2011

मदमस्त आखें

मदमस्त आखें, खुली हुई बाहें |
निकलती आहें, रुकी हुई सांसें |

No comments:

Post a Comment