Thursday, July 7, 2011

दिल हो

दिल हो जाता है बेचैन |
अब नहीं रहता अमन चैन |
आरजू करूँ, इल्तजा करूँ |
तेरे प्यार की खातिर क्या करूँ |

No comments:

Post a Comment